विद्यालयों में पठन-पाठन सुव्यवस्थित करने का निदेश, जिला शिक्षा कार्यालय के कार्य प्रगति की समीक्षा

विद्यालयों

विद्यालयों में पठन-पाठन सुव्यवस्थित करने का निदेश, जिला शिक्षा कार्यालय के कार्य प्रगति की समीक्षा

बेतिया। जिला पदाधिकारी, पश्चिम चम्पारण, डॉ0 निलेश रामचंद्र देवरे द्वारा जिला में कार्यरत शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों के कार्य प्रगति की समीक्षा किया गया। कार्य प्रगति असंतोषजनक पाये जाने के चलते जिलाधिकारी ने सभी संबंधित पदाधिकारियों से स्पष्टीकरण पूछा है तथा पोशाक राशि/साईकिल की राशि का समायोजन नहीं होने/अव्यवहृत राशि प्रत्यार्पित नहीं किये जाने के चलते डीपीओ (योजना एवं लेखा) को प्रपत्र ‘क‘ में आरोप गठित करने की चेतावनी दिया गया है।

समाहरणालय सभाकक्ष में आयोजित समीक्षा बैठक में पाया गया कि शिक्षा विभाग के जिलास्तरीय पदाधिकारी/प्रखंडस्तरीय पदाधिकारी द्वारा विद्यालयों का नियमित निरीक्षण नहीं किया जा रहा है। जिसके चलते विद्यालयों में पठन-पाठन की व्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

साथ ही पोषाक राशि, साइकिल की राशि आदि लाभुकों के खाते में हस्तांतरित नहीं किया गया है। कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की समीक्षा के क्रम में नरकटियागंज/चनपटिया/बैरिया आदि के छात्राओं की उपस्थित 100 में 100 नहीं पाये जाने के चलते उन विद्यालयों के संचालकों एवं वार्डन से स्पष्टीकरण पूछा गया है।

कतिपय कस्तूरबा विद्यालय के बच्चियों को ठंड के मौसम में ऊनी स्वेटर/ब्लेजर की आपूर्ति नहीं किये जाने को भी अत्यंत गंभीरता से लिया गया है और जिला प्रोग्राम पदाधिकारी एवं संबंधित विद्यालयों के संचालकों को स्पष्टीकरण पूछा गया है। जिलाधिकारी द्वारा जिला के सभी विद्यालयों में शैक्षणिक सत्र सुदृढ़ करने हेतु हिदायत दिया गया।

उन्होंने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारियों/प्रखंड शिक्षा पदाधिकारियों को अपने क्षेत्रान्तर्गत प्रत्येक स्कूलों का नियमित निरीक्षण करने तथा हर एक-दो दिन पर निरीक्षण प्रतिवेदन जिला मुख्यालय भेजने का निदेश दिया है।

जिलाधिकारी द्वारा 21 जनवरी, 2018 को राज्यव्यापी मानव श्रृंखला निर्माण के मद्देनजर प्रखंड शिक्षा पदाधिकारियों को श्रृंखला में प्रत्येक 100 मीटर पर एक-एक प्रभारी पदाधिकारी को चिन्हित कर उनका नाम/पदनाम/मोबाईल नंबर उपलब्ध कराने का निदेश दिया गया।

इस बैठक में निदेशक, डीआरडीए, डीपीआरओ-सह-ओएसडी, जिला शिक्षा पदाधिकारी सहित शिक्षा विभाग के सभी जिलास्तरीय/प्रखंडस्तरीय पदाधिकारी आदि उपस्थित थे।