मूडीज ने भारत की रेटिंग में 14 साल बाद बड़ा बदलाव,एजेंसी ने भारत की रेटिंग बीएए3 से बढ़ाकर बीएए2 कर दी

मूडीज ने भारत की रेटिंग में 14 साल बाद बड़ा बदलाव,एजेंसी ने भारत की रेटिंग बीएए3 से बढ़ाकर बीएए2 कर दी

मूडीज ने बढ़ाई रेटिंग
नवंबर में ग्लोबल रेटिंग एजेंसी मूडीज भी अच्छी खबर लाई। मूडीज ने भारत की रेटिंग में 14 साल बाद बड़ा बदलाव किया। एजेंसी ने भारत

की रेटिंग बीएए3 से बढ़ाकर बीएए2 कर दी। रेटिंग आउटलुक भी पॉजिटीव से स्टेबल कर दिया। मूडीज मे जीएसटी, नोटबंदी और आधार की

तारीफ की। इसके अलावा बैंकों को पूंजी देने का फैसला भी रेटिंग एजेंसी का भा गया।

एजेंसी को लगता है कि मार्च 2018 तक भारत की विकास दर औसत 6.7 फीसदी रह सकती है। भारत का विदेशी मुद्रा भंडार भी करीब 25 लाख करोड़ के आसपास है।

एस एंड पी ने की तारीफ
विश्व की दूसरी बड़ी एजेंसी एस एंड पी ने हालांकि भारत की रेटिंग नहीं बढ़ाई लेकिन सरकार के सुधारों की तारीफ की। एजेंसी ने सरकार की वित्तीय स्थिति को लेकर थोड़ी चिंता जताई।

GST

जीएसटी
1 जुलाई 2017 को लागू हुए जीएसटी कानून ने विश्व में भारत की अलग छवि पेश की। कानून लागू करने में शुरुआत में कई तरह की दिक्कतें आई हालांकि सरकार ने धीरे-धीरे इनको दूर किया। जीएसटी के तहत 5,12,18 और 28 फीसदी टैक्स के स्लैब में सभी सेवाओं और वस्तुओं को डाल दिया गया। जीएसटी के तहत ऑनलाइन टैक्स भरने की व्यवस्था की गई।

कारोबार के लिहाज से देखें तो 2017 में भारत की छवि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चमकी। जब से मोदी सरकार आई तब से कारोबार के लिहाज से भारत की छवि चमकाने की कोशिश हो रही थी। इसका फायदा भी सरकार को मिला। वर्ल्ड बैंक और मूडीज ने सरकार के सुधारों के बदले तोहफे में भारत की छवि सुधारने में मदद की।

वर्ल्ड बैंक आसान कारोबार की सूची में 100 वां स्थान
वर्ल्ड बैंक की आसान कारोबार वाले देशों की सूची में भारत ने 30 स्थान की छलांग लगाई। अक्टूबर 2017 में जारी इस सूची में भारत को 100 वां स्थान मिला। पिछले साल भारत की रैंकिंग 130 थी। रेटिंग में बढ़ोतरी दिवालिया कानून, छोटे शेयरधारकों की रक्षा और टैक्स चुकाने संबंधी सुधारों के चलते हुई है। सरकार की अब इस रैकिंग में टॉप 50 में स्थान बनाने की योजना है।