बिहार सरकार द्वारा दिन-प्रतिदिन विकास का दावा किया जा रहा है- वही धरातल पर लूट खसोट का एक जरिया बना हुआ है

बिहार सरकार द्वारा दिन-प्रतिदिन विकास का दावा किया जा रहा है- वही धरातल पर लूट खसोट का एक जरिया बना हुआ है

बेगूसराय जिले के बरौनी प्रखंड के अंतर्गत नींगा पंचायत वार्ड नंबर-02 केंद्र संख्या- 171 , जहां पर आंगनबाड़ी सेविका (रशीदा खातून) पर सहायिका द्वारा मनमौजी का आरोप हैं!
ग्रामीणों का कहना है कि केंद्र कहीं और है जबकि सेविका अपने आवास पर ही केंद्र चला रही है!
एवं किराया भी विभाग से लिया जा रहा ह! बच्चे के अभिभावक का कहना है के बच्चे का पोषण आहार विगत 2 महीने से बंद है! सेविका के मनमौजी पर विरोध करने पर बच्चे का नाम काट दिया जाता है! केंद्र पर बच्चे 5 से 10 की संख्या में ही आते हैं जबकि उपस्थितिपंजिका में सेविका द्वारा 35 से 38 बच्चों का उपस्थिति दर्ज रहता है! सेविका की कथनानुसार आंगनवाड़ी के सुपरवाइजर श्रीमती नीतू मैडम का आदेश है कि केंद्र पर बच्चे कुछ भी रहे लेकिन उपस्थिति 35 से 38 बच्चे का दर्ज करना है!

ऐसा ही एक और केंद्र है जिसका केंद्र संख्या 170 पंचायत नींगा वार्ड 01 यहां पर बच्चे के अभिभावक का कहना है केंद्र पर सरकार द्वारा बच्चे को पोषाहार मुहैया कराया जाता है वह भी सेविका द्वारा बच्चे को नहीं दिया जाता है साथ ही साथ बच्चों को भोजन छोटा चम्मच से माप कर दिया जाता है जिससे बच्चे भूखे ही रह जाते हैं! भोजन भी बहुत घटिया किस्म का बच्चों को दिया जाता है! एवं सेविका द्वारा भोजन घर से ही बना कर लाया जाता है! केंद्र पर बच्चों की उपस्थिति 5 से 10 ही रहती है जबकि क उपस्थिति पंजिका में 20 से 30 बच्चे का उपस्थिति बनाया जाता है! सेविका के कथनानुसार सुपरवाइजर नीतू देवी का ही आदेश है कि बच्चे केंद्र पर कुछ भी रहे लेकिन उपस्थिति 30 से 35 बच्चे का होना चाहिए!